National

50 सालों से चिकित्सा क्षेत्र में डॉ. बेदी का योगदान, ‘चेतना’ के माध्यम से किया कैंसर का इलाज, अमेरिका को जगाना नया मिशन…

नई दिल्ली। प्रोस्टेट कैंसर एक जानलेवा बीमारी है, इसके मरीजों के लिए राहत की खबर आई है। डॉ. बाबा स्टीव बेदी, अमेरिकी प्रशिक्षित चिकित्सक, यूरोलॉजी, सामान्य सर्जरी और एकीकृत चिकित्सा संयुक्त राज्य अमेरिका में 50 से अधिक वर्षों से रह रहे हैं, जो अब रोबोटिक्स प्रोस्टेटैक्टोमी या विकिरण के बिना प्रोस्टेट कैंसर का इलाज भारत में कर रहें हैं।

कौन है डॉक्टर बेदी…

डॉक्टर बेदी ने 1966 में मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज नई दिल्ली भारत से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। फिर वे 1967 में संयुक्त राज्य अमेरिका गए और सेंट जोसेफ अस्पताल में अपनी इंटर्नशिप व मेट्रोपॉलिटन अस्पताल में सामान्य सर्जरी में निवास किया। वही, डेट्रॉइट मिशिगन 1969 में वे वेन स्टेट यूनिवर्सिटी, मिशिगन में यूरोलॉजी कार्यक्रम में शामिल हुए।

1971 से 1974 तक उन्होंने मिशिगन के ओनवे और चेबॉयगन में अपना अभ्यास खोला। 1974 से 1984 तक उन्होंने जेफिरहिल्स और न्यू पोर्ट रिची, फ्लोरिडा में अभ्यास किया। डॉ. बेदी ने हृदय रोगों, प्रोस्टेटिक रोगों, कैंसर, मधुमेह और उच्च रक्तचाप आदि के लिए ध्रुवीकरण चिकित्सा (आंतरिक विज्ञान) शुरू किया। वही, डॉक्टर बेदी ने सैकड़ों रोगियों का इलाज किया जो कैंसर और पुरानी बीमारियों से पीड़ित थे।

1995 में अमेरिका में अपने पिता की मृत्यु के बाद उन्होंने भारत आना शुरू किया। इन वर्षों के दौरान उन्होंने अपनी जड़ें अपनी मातृभूमि भारत में स्थापित की, जहां उनका पालन-पोषण हुआ।

  • सर्जरी के बिना प्रोस्टेट रोगों का इलाज।
  • बिना बाईपास सर्जरी या स्टंट के हृदय रोगों का इलाज करें।
  • बिना दवा के उच्च रक्तचाप और मधुमेह का इलाज करें।
  • बालों को प्राकृतिक रूप से उगाएं।
  • बिना सर्जरी के घुटने के गठिया का इलाज करें।
  • धब्बेदार अध: पतन, मोतियाबिंद और ग्लूकोमा को रोकें।
  • दवा के बिना दुबले-पतले रहें।
डॉक्टर बेदी का मिशन…

डॉ. बेदी ने कैंसर का इलाज खोजने के लिए अपना मिशन पूरा किया। उन्होंने “कैंसर खुद को बिना शर्त चेतना के माध्यम से ठीक करें” पुस्तक समाप्त की और उनका नया मिशन अमेरिका को जगाना सिखाना है।

डॉ. बाबा स्टीव बेदी ने फ्लोरिडा राज्य के राज्यपाल बनने के लिए फाइल की…

बता दे कि 16 तारीख को डॉ. बाबा स्टीव बेदी ने फ्लोरिडा राज्य के राज्यपाल बनने के लिए पर्चा दाखिल किया। हमें अपने पथ पर ले जाते हुए, डॉ. बाबा स्टीव बेदी 1967 में एक चिकित्सक के रूप में फ्लोरिडा आए और काम शुरू किया।

अपनी पुस्तक “द कैंसर, क्योर योरसेल्फ” में बिना शर्त विवेक के माध्यम से” में उपलब्ध जीवन स्वतंत्रता और खुशी के बारे में बात करता है। यह पुस्तक अमेरिकी स्वास्थ्य के प्रति जागरूक फाउंडेशन है। लोगों का समर्थन करने के लिए मुफ्त में बेचा जाता है और उन्हें कैंसर से उबरने के लिए उनकी बेटी ने सभी कागजों पर हस्ताक्षर कर चुनाव विभाग को भेज दिया था।

डॉ. बाबा स्टीव बेदी का कहना है कि वह 1 मिलियन लोगों को योगी के रूप में ज्ञानवर्धन के माध्यम से बढ़ाएंगे। वह अमेरिका को जगाना चाहते हैं और उन्हें योगी बनाना चाहते हैं, खुद से बड़ा बनना चाहते हैं। वह बुद्ध शब्दों द्वारा जागृति के अर्थ को संदर्भित करता है “आपको जागृत करना, पहले आप स्वयं के लिए बने हैं, दूसरा स्वयं के लिए एक जीवन है, तीसरा अस्तित्व की कुल जागरूकता है, चौथा आप अकेले पैदा हुए हैं और इसलिए आप अकेले मरते हैं, पांचवां सतर्क है : हम सब बिना शर्त चेतना में पैदा हुए हैं”।

वह यह भी कहते हैं कि वह 5 मिलियन नौकरी के अवसर प्रदान करेंगे जिससे लोगों को आजीविका लाने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, वह बहुत अडिग है कि फ्लोरिडा में हर किसी को अपने अस्तित्व के लिए भोजन और रहने के लिए जगह मिले।

क्या होता है प्रोस्टेट कैंसर...

प्रोस्टेट कैंसर एक प्रकार का कैंसर है, जो प्रोस्टेट ग्रंथि मे होता है। प्रोस्टेट कैंसर तब शुरू होता है जब प्रोस्टेट ग्रंथि में कोशिकाएं नियंत्रण से बाहर होने लगती हैं। प्रोस्टेट एक ग्रंथि है, जो केवल पुरुषों में पाई जाती है। यह कुछ तरल पदार्थ का उत्पादन करता है जो वीर्य को बनाने मे मदद करता है। प्रोस्टेट कैंसर धीरे-धीरे बढ़ता है।

हालांकि, कई प्रोस्टेट कैंसर अधिक आक्रामक होते हैं व प्रोस्टेट ग्रंथि के बाहर फैल सकते हैं, जो घातक हो सकता है। प्रारंभिक पहचान और व्यक्तिगत इलाज के साथ प्रोस्टेट कैंसर की जीवित रहने की दर में काफी सुधार हो सकता है। प्रोस्टेट पुरुषों में अखरोट के आकार की ग्रंथि है, जो ब्लेडर के ठीक नीचे और मलाशय (रेक्टम) के सामने, मूत्रमार्ग (यूरेथ्रा) के आसपास स्थित होती है। वह नली जो ब्लेडर से युरिन को बाहर निकालती है।एक आदमी की उम्र के अनुसार प्रोस्टेट का आकार बदल सकता है। छोटे पुरुषों में, यह अखरोट के आकार होगा, लेकिन वृद्ध पुरुषों में यह बहुत बड़ा हो सकता है।

क्या कहते है डॉक्टर बेदी…

डॉ. बेदी एक ओपन डिबेट के माध्यम से लोगों तक अपना संदेश पहुंचना चाहते हैं। हाल ही में 16 जून को वह भारत से अमेरिका वापस गए हैं। उनका मानना है कि अस्तित्व अनंत है। हम मानव शरीर के अस्तित्व की इस दुनिया में विकास के माध्यम से आए हैं। हम बिना शर्त चेतना में एक प्रतिभाशाली के रूप में पैदा हुए हैं लेकिन हम मन की घटना के कारण पूरी तरह से वातानुकूलित बेहोशी बन गए हैं, जो जानवरों के पास नहीं है और अस्तित्व है। इसलिए हम कहते हैं मन छापों का ढ़ेर है कोई भी भोजन का ढेर है लेकिन हम अस्तित्व हैं और हम अस्तित्व में वापस जाते हैं हम न तो बॉन हैं व न ही मरते हैं, क्योंकि हम सचेत नहीं हैं।

डॉक्टर बेदी का नया मिशन अमेरिका को जगाना है। वह चाहते हैं कि भारत की तरह अमेरिका में लोग जागरूक हो व कैंसर का इलाज खुद को बिना शर्त चेतना के माध्यम से करें। उन्होंने सभी से कहा है कि उनकी बुक कैंसर क्योर पढ़ें।

वही, बॉलीवुड की मशहूर अदाकारा करीना कपूर के जीवन का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने सैफ अली खान से शादी की है। उनके दो बच्चे हैं एक तैमूर और जहांगीर। उनका छोटा बेटा 02 साल का है, उसके पास इस उम्र में आपार सम्पत्ति है। वह एक प्यारा बच्चा है, और उसके अंदर खूबसूरत आत्मा है।

NU DESK

Nation Update Is The Fastest Growing News Network in India. It Comprises of the Youth And Active Media Team Covering All The Sectors From Each And Every Corner of the Country. Nation Update Has Worked Brilliantly Covering And Reporting The Ground Reality Of The Country...

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!